Skip to content
Home » Blog » सभी इच्छाओं को करें अतिशीघ्र पूर्ण

सभी इच्छाओं को करें अतिशीघ्र पूर्ण

    कालाष्टमी व्रत बहुत ही फलदायी माना जाता है । इस दिन व्रत रखकर पूरे विधि-विधान से काल भैरव की पूजा करने से व्यक्ति के सारे कष्ट मिट जाते हैं काल उससे दूर हो जाता है । इसके अलावा व्यक्ति रोगों से दूर रहता है और उसे हर कार्य में सफलता प्राप्त होती है|

    लाष्टमी का त्योहार हर माह की कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है । इस दिन काल भैरव की पूजा की जाती है, जिन्हें शिवजी का एक अवतार माना जाता है । नारद पुराण के अनुसार कालाष्टमी के दिन कालभैरव और मां दुर्गा की पूजा करनी चाहिए । इस दिन शक्ति अनुसार रात को माता पार्वती और भगवान शिव की कथा सुन कर जागरण का आयोजन करना चाहिए । आज के दिन व्रती को फलाहार ही करना चाहिए और विधि विधान के साथ “अतिक्रूर महाकाय कल्पान्त दहनोपम्, भैरव नमस्तुभ्यं अनुज्ञा दातुमर्हसि!!” मन्त्र जप करते हुये पूजा करनी चाहिए । शिव पुराण में कहा है कि भैरव परमात्मा शंकर के ही रूप हैं । इसलिए आज के दिन इस मंत्र का जाप करना फलदायी होता है । कालभैरो की सवारी कुत्ता है । अतः इस दिन कुत्ते को भोजन करवाना शुभ माना जाता है|

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.